🏀 देशभर के पत्रकार साथियो, हमारी ट्रेड यूनियन, वर्किंग जर्नलिस्ट्स ऑफ इंडिया, सम्बद्ध भारतीय मजदूर संघ, लगातार डिजिटल मीडिया व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथियो को बता रहे है कि केंद्र सरकार ने डिजिटल मीडिया व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े साथियो को " वर्किंग जॉर्नलिस्ट " मान लिया है, तो हमारी बात पर कोई मानने को तैयार नही था। साथियो, अब हम सरकारी अधिसूचना की कॉपी आपके सामने रख रहे है। इसके अनुसार डिजिटल मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े साथी व रेडियो में काम करने वाले ब्रॉडकास्टर भी पत्रकार माने जाएंगे। सरकारी सुविधाएं अब अनुबंध पर काम करने वाले पत्रकारो व स्ट्रिंगरों को भी मिलेगी। साथियो, अपने मीडिया जगत को ये सभी सुविधाएं व सम्मान दिलवाने के लिये हमें काफी मेहनत करनी पड़ी। पत्रकारो की मांगों को लेकर 9 जुलाई, 2019 को भारतीय मजदूर संघ, के क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्री पवन कुमार जी की अगुवाई में हमारी यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अनूप चौधरी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री संजय उपाध्याय, राष्ट्रीय महासचिव श्री नरेन्द्र भंडारी के साथ , नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स, इंडिया के नेता श्री हेमंत विश्वोई , उमेश चतुर्वेदी, प्रमोद कुमार सैनी ,सुश्री सर्जना शर्मा व वरिष्ठ पत्रकार श्री केजी सुरेश , केंद्रीय श्रम राज्य मंत्री श्री संतोष कुमार गंगवार जी से मिले और उन्हें एक विस्तृत ज्ञापन दिया । हमारे ज्ञापन पर गंभीर रुख लेते हुए, मंत्री जी ने डिजिटल मीडिया , इलेक्ट्रॉनिक मीडिया व रेडियो ब्रॉडकास्टर को भी , लेबर कोड्स , में शामिल करवाया। साथियो, अब आगे का संघर्ष, ई -पेपर को भी मान्यता दिलवाने के लिये है ।

Posted By: